Operating System के प्रकार- Types of Operating System in Hindi

Operating System in Hindi
Spread the love

आज हम जानेंगे operating system की Types के बारे में- Types of Operating System in Hindi। Operating System का use हम सभी ने करते है और इसका इस्तेमाल सभी जगह पर हो रहा है। जैसे- Railway, Research, Satellite, Industry, Office etc. आप सुन के हैरान हो जाओगे सभी जगह पर एक ही तरह के Operating System इस्तेमाल नहीं होता है, अलग अलग field मे अलग अलग types के Operating System इस्तेमाल होता है। किन्तु बहुत कम लोग ही जानते है OS की उन सब types के बारे मे । चलिए आज operating system के उन सभी Types के बारे में जान लेते है।

Operating System क्या है – What is OS in Hindi

Operating system एक प्रकार का system Software है। जिस software के अंदर एक Programs का set रहता है। और उस programming के through Operating system user और hardware components (CPURAMHDD, etc.) को जोरके रखते है। मतलब हम जब भी कम्प्यूटर को कोई काम देते हैं तब Operating system programming को use करके hardware components के through हमारा कामों को सम्पन्न करा लेता है। असल में एक ऑपरेटिंग सिस्टम user और hardware components के बीच एक interface की तरह काम कर रहा है। Operating system को OS के नाम से भी जाना जाता है।

OS in Hindi

आपको और भी आसान भाषा मे समझाता हूँ Operating System क्या है. देखिए दोस्तों, हमारे Desktop और Laptop computer के अंदर बहुत सारे Hardware component रहता है और हम जब Desktop और Laptop computer को इस्तेमाल करते हैं तब उन सब Hardware component को ही इस्तेमाल करते है। किन्तु उन hardware components को हम Directly इस्तेमाल नहीं करते हैं, उस hardware को operating system की through इस्तेमाल करते है । और यहां पर ही ऑपरेटिंग सिस्टम user और hardware components के बीच एक interface या bridge की तरह काम कर रहा है।

आपको अगर Operating system के बारे मे details मे जानना चाहते हो तो आप इस notes को follow करो- OPERATING SYSTEM क्या है – WHAT IS OS IN HINDI

Operating System के प्रकार- Types of Operating System in Hindi

आपको अगर CPU की कार्ये के बारे मे मालूम है तो आपको पता होगा CPU सिर्फ task को process करता है। CPU को यह पता नहीं रहता कौनसा प्रोग्राम को पहले process करना है या कौनसा प्रोग्राम को बाद में process करना है। Operating system ही CPU को instruction या आदेश देता है कौनसा प्रोग्राम को पहले process करना है और कितने time तक बह process करना है। OS की उस आदेश के अनुसार CPU work करती है।

किन्तु, सभी Operating system एक ही तरह से processor को instruction नहीं देता है। अलग अलग Operating system अलग अलग तरीको से processor को instruction देता है। और Operating System की उन instruction देने की तरीको की लिहाज पर Operating System को कही भागों मे बीभक्त किया गेआ है। चलिए देख लेते है:-

  1. Batch operating system
  2. Multi Programming Operating System
  3. Time-Sharing Operating Systems
  4. Real-time operating system
  5. Distributed Operating System
  6. Network Operating System
Types of Operating System in Hindi

1. Batch operating system in Hindi

Batch operating system एक ऐसा operating system है जिसका इस्तेमाल first generation के कंप्यूटर में हुआ करते थे। वर्तमान समय मे हम जिस तरह computer से कोई भी task को process कराने के लिए operating system को directly Command देते है, उस समय के Batch operating system मे Users OS को directly task नहीं दे सकते थे।

इस OS को task देने के लिए Users को punch card का इस्तेमाल करना परता था। Users पहले उस punch card में आपना task या job को write परता था और Write करने के बाद उस punch card को computer operator को देता था। उसके बाद operator similar kind of job या task की एक batch बनाके और system मे insert कर देता था।

जैसे आप नीच मे दी गई image मे देख रही हो-

Types of Operating System in Hindi

और उसके बाद operating system उस batches को process होने के लिए CPU के पास भेज देता था। और OS की उस instruction के अनुसार CPU task को process करता था।

Advantages of Batch Operating System
  1. बहुत सारे user इस Operating system को इस्तेमाल कर सकते है।
  2. इस Operating system मे CPU की Ideal time कम होती है ।
  3. इस Operating system बहुत सारे repeatedly task को easily manage करता है।
Disadvantages of Batch Operating System
  1. एक बार Job को input कर देने के बाद user का उससे कोई भी interaction नही होता था।
  2. किसी Job की processing fail हो जाने पर batch की बाकी जॉब को अज्ञात समय तक प्रतीक्षा करनी होती थी।

2. Multi Programming Operating system in Hindi

Multi Programming Operating system का मुख्य लक्ष्य यह रहता है User द्वारा दी गई ज्यादा से ज्यादा task या instruction को Main Memory (RAM) मे ले आना और बाद में उन सभी task या instruction को एक के बाद एक Processor से process करबाना।

आपको example के जरिए समझाता हूँ , मान लीजिए RAM मे 6 task या instruction (T1,T2,T3,T4,T5,T6) loaded है। इस Multi Programming Operating system CPU को यह instruction देती है, के तुम (CPU) एक के बाद एक task को process करोगे। मतलब पहले T1 को process करोगे, T1 का Process अगर Successfully complete हो जाता है तो उसके बाद ही T2 को Process करोगे। इसी instruction को follow करके CPU एक के बाद एक task को process करता है।

Types of Operating System in Hindi

इस Operating system Processor को और एक instruction देती है, कोई task को process करने के समय अगर उस Task कोई Input output device access करना चाहता है तो उस Task को तुम (CPU) Input output device access करने के लिए भेज दोगे। और उस time मे तुम खाली नहीं बैठ के next task को process करना start कर दोगे। जैसे आप ऊपर की image में देख रही हो।

मतलब मान लीजिए CPU T1 को process कर रहा है उस समय T1 को अगर कोई Input output device access करने की जरूरत परती है तो CPU T1 को Input output device access करने के लिए भेज देगा और उस समय CPU next task को process करना start कर देगा। ईस OS का Advantage यही है इसमे CPU का Idleness कम होता है। Idleness का मतलब खाली नहीं बैठना। CPU हर बक्त working condition मे रहता है।

multi programming operating system का example है Windows OS। मतलब Window 7, XP, 8.1, 10 , 11। इस os मे user एक ही समय मे बहुत सारे काम को कर सकते है। जैसे MS-Excel को use करना , download apps, transfer data from one point to another point, Firefox or Google Chrome browser, etc.

Advantages

  1. इस OS मे CPU हर बक्त working condition मे रहता है।
  2. multiple task को Main memory Load करने की बजह से CPU को next task के लिए wait करना नहीं परता है।
  3. इस operating system को Multiple user access कर सकते है ।
  4. इस operating system आपने Resources को अछे तरह से इस्तेमाल करते है।

Disadvantages

  1. इस OS मे CPU scheduling की जरूरत परती है।
  2. multiple task को Main memory Load रहने के लिए कभी कभी OS main memory अच्छे तरह से manage नहीं कर पता है।
  3. इस operating system Main memory मे Loaded task को कभी कभी track नहीं कर पता है।

3. Time-Sharing Operating Systems in Hindi

Multi Programming Operating system की तरह ही होता है Time-Sharing Operating Systems। यह भी Multiple Program या task को RAM में load करता है। और उसके बाद उस task को processor के पास भेजता है। but इस Operating Systems main Focused रहता है response time को कम करना। मतलब Multi Programming Operating system ने हमने देखा CPU एक के बाद एक instruction या task को process करता था उसमे last task का turn काफी time के बाद आता था। मतलब last task की response time बहुत बढ़ जाता था ।

But इस OS मे ऐसा नहीं करता है। इस Time-Sharing OS हर Program या task को process करने के लिए CPU को एक limited time set कर देता है, मान लीजिए 1 min। 1 minute के बाद CPU आपने आप ही next task को process करने के लिए चला जाएगा। मतलब अगर RAM मे 6 program या task (T1,T2,T3,T4,T5,T6) loaded है। उन हर एक task को process करने के लिए इस OS CPU को एक limited time set कर देता है।

Types of Operating System in Hindi

मान लीजिए CPU T1 को Process कर रहा है । कुछ time के लिए ही CPU T1 को Process करेगा, जैसे ही बह time खतम हो जाएगा CPU T2 को Process करने चला जाएगा। इसी तरह T3,T4,T5,T6 को कुछ कुछ time के लिए execute करेगा। इस short time मे अगर कोई Task complete हो जाता है तो अच्छा है, नहीं तो CPU last task के बाद फिरसे first task मे जाएगा। और इसी तरह CPU फिरसे T2,T3,T4,T5,T6 को short time के लिए Process करेगा। इस process तब तक चलेगा जब तक सभी task complete ना हो जाए।

Time-Sharing Operating Systems का example है- Multics, Unix, Linux, TOPS-10 (DEC), TOPS-20 (DEC) etc.

Advantages

  1. इस OS मे सभी task को process होने के लिए equal opportunity दिया जाता है।
  2. इस OS मे CPU response time कम होता है Multi Programming Operating system की तुलना मे।
  3. यदि limited time मे किसी टास्क की प्रकिया पूरी हो जाये, तो बाकी टास्क के बीच निर्धारित समय बढ़ जाता है।

Disadvantages

  1. इस operating system का डाटा communication बहुत ही worst है।
  2. इस OS पर आप ज्यादा भरोषा नहीं कर सकते।

Related Notes :-

  1. CPU क्या है (WHAT IS CPU IN HINDI) & उसकी जानकारी अब हिन्दी मे
  2. RAM क्या है(WHAT IS RAM IN HINDI) और कैसे काम करते है ?
  3. CACHE MEMORY क्या है?(WHAT IS CACHE MEMORY IN HINDI) BEST EXPLANATION

4. Real-time operating system in Hindi

पिछले तीन ऑपरेटिंग सिस्टम में हमने देखा कोई भी Task देने के बाद output आने के लिए user को कुछ देर तक wait करना पड़ता था। किन्तु, इस OS मे ऐसा नहीं होता है। Real-time operating system CPU को User द्वारा दी गई Task को तुरंत solve करने की instruction देती है। इस OS मे User अगर कोई task देती है CPU को बह Task तुरंत solve हो जाता है। इसमें delay नहीं होता है ।

Real time OS में time बहुत ज्यादा matter करता है। इसलिए इस OS को वहां पर ही इस्तेमाल किया जाता है जहां पर time का महत्व ज्यादा हो। मतलब इस operating system को weapon systems, air traffic control systems, Heart Peacemaker, Automobile control system like as Anti Lock & Air Bag, online transaction, etc. जगह पर इस्तेमाल किया जाता है।

Advantages

  1. इस OS की सबसे बड़ी advantage है इसकी quick Response time। कोई भी task को जल्दी process करता है।
  2. इस OS की task shifting बहुत fast है बाकी OS की तुलना मे।
  3. इस OS मे कोई तरह की error नहीं आती है।
  4. Memory को सही तरह से इस्तेमाल करता है इस operating system।

Disadvantages

  1. एक time मे इस OS बहुत कम task को ही process कर सकता है।
  2. इस OS का algorithms बहुत complex होती है।
  3. Real-time operating system बहुत costly होता है।

5. Distributed Operating System in Hindi

Distributed operating systems को Clint server architecture में इस्तेमाल किया जाता है। हम सब जानते है Clint server architecture बढ़े बढ़े company में use होता है। Clint server architecture में क्या होता है, बहुत सारे computer को network की मदद से जोड़ा जाता है और उन सभी कंप्यूटर की मदद से बहुत सारे कामोको एक साथ किया भी जा सकता है।

Types of Operating System in Hindi

Distributed का मतलब होता है वितरित। Operating System वितरित नहीं होता है , Distributed होता है environment। मतलब हम हमारे PC मे जो os इस्तेमाल करते है उस मे OS से एक time मे एक काम को कर पाते है but हमारे पास जब multiple task आ जाता है तब उस OS मे उन सभी task को process करने मे बहुत time चला जाता है। और हम अगर multiple task को multiple System में Distributed कर दिया तो बह task एक ही time मे complete हो जाता है। और इसी तरह Distributed Operating System multiple task को multiple System मे Distributed कर देता है।

Advantages

  1. Distributed System मे कोई system अगर corrupt भी हो जाए तो overall environment में कोई फरक नहीं परेगा।
  2. Distributed System मे कोई system पर अगर task की ज्यादा load आ जाए तो इस OS उन task को बाकी system मे Distributed कर देता है ।
  3. User आसानी से आपस मे आपने Resource को share कर सकते है।
  4. Distributed System मे एक printer को multiple PC के साथ share किया जा सकते है।
  5. इस os को आप different locations से remotely access कर सकते हो।
  6. Distributed System की मदद से एक time में ज्यादा task को execute किया जा सकता है।

Disadvantages

  1. इस Distributed System को remotely access करने पर इसकी performance slow हो जाता है।
  2. इस Distributed System मे share कीये जाने file कभी कभी lost भी हो सकते है ।
  3. अगर main नेटवर्क fail हो जाये, तो इससे सभी कम्प्यूटरों का communication टूट जाता है।
  4. इस Operating System का price बहुत ज्यादा होता है।

6. Network Operating System in Hindi

Network Operating System को Server Computer पर run किया जाता है। इस Operating System का काम होता है Server की सभी data, users की information, groups, security, applications, और other networking functions को manage करना। हम सब जानते है Server Computer के साथ बहुत सारे computer जुड़े हुए रहते है और उन सभी computers को Clint computer कहते है । इस OS की main purpose है Clint computer को server की सभी services provide करना। मतलब server मे share files , printer, applications, etc. को access करने की अनुमति देना।

Examples: MS Windows Server 2003, MS Windows Server 2008, NetWare, BSD etc.

Advantages

  1. इस Operating System Server के performance को stable रखता है ।
  2. बाकी सभी OS के मुकाबले इस OS की Security level high रहता है।
  3. इस OS मे technologies और hardware up-gradation करना easy रहता है।
  4. इस OS का major advantage है इस os को आप different locations से remotely access कर सकते हो।

Disadvantages

  1. इस OS को regularly Maintenance और updates करना परता है ।
  2. Network Operating System बहुत costly होता है।

यह भी पूछे जाते है- People also ask

1. कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम कौन कौन से होते हैं?

Ans– basically ऑपरेटिंग सिस्टम तीन प्रकार के होते है-

  1. Microsoft operating system.(Windows)
  2. Mac operating system. 
  3. Linux operating system.

2. मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम कौन कौन से हैं?

Ans- Window 7, XP, 8.1, 10 , 11 इन सब Operating system को मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम कहा जाता है।

3. पहला ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा था?

Ans- दुनिया का पहला Operating system का नाम था GM-NAA I/O। इस OS को IBM ने बनाया था सन 1956

4. सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण क्या है ?

AnsSingle User ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण

  • Windows.
  • Linux.
  • Mac O/S.
  • MS-DOS.
  • Palm OS.

5. मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण क्या है ?

AnsMulti Programming Operating system के उदाहरण

  • Unix.
  • Linux.
  • Solaris.
  • HP-UX.
  • OpenBSD.
  • Mac OS X.
  • Windows XP.
  • Windows NT.

Related Notes :-

  1. NETWORK DEVICES IN HINDI- ROUTER, MODEM, SWITCH, REPEATER
  2. NETWORK क्या है और कितने प्रकारके होते है – WHAT IS NETWORK IN HINDI
  3. TOPOLOGY क्या है ( TOPOLOGY IN HINDI) और कितने प्रकार के होते है ?
  4. TCP/IP MODEL क्या है – TCP/IP MODEL IN HINDI ?

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप  Operating System के प्रकार-Types of Operating System in Hindi को read करने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बोहत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है.


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *