Primary Memory क्या है और इसके हर एक प्रकार को जानिए – Primary Memory in Hindi

Primary-Memory in hindi
Spread the love

देखिए दोस्तों, कंप्युटर मेमोरी की अगर बात करे तो दो प्रकार की memory हमे देखने को मिलता है। एक Primary memory और दूसरा Secondary memory। इस notes मे हम Primary memory (what is primary memory in Hindi) के ऊपर ही अधिकतर Focused करेंगे। तो चलिए शुरू करते है –

SECONDARY MEMORY क्या है और इसके प्रकार – WHAT IS SECONDARY MEMORY IN HINDI

Primary Memory क्या है- What is Primary Memory in Hindi?

Primary memory को हम main memory भी कहते है। कोई भी device (mobile हो या Computer) बह main memory के जरिए ही On रहता है because Primary memory कुछ ऐसा important डाटा को hold करके रखते है जिसकी बजह से पूरे device on रहता है। कंप्यूटर का सारा काम Main Memory के जरिए ही होता है। इस primary memory से CPU के साथ Direct communicate करता है। primary memory की एक ही disadvantage होता है- बह है, इसमे कोई भी डाटा को permanently store नहीं किया जा सकता है।

प्राइमरी मेमोरी उदाहरण क्या है?

:- प्राइमरी मेमोरी उदाहरण है –  RAM, ROM, Cache memory, PROM, EPROM, Registers, etc.

प्राइमरी मेमोरी का दूसरा नाम क्या है?

:- प्राइमरी मेमोरी का दूसरा नाम है Main Memory.

Primary Memory की विशेषताएं
  1. इसे semiconductor memory कहते है ।
  2. इसे main memory भी कहा जाता है ।
  3. Secondary memory से fast होता है ।
  4. कोई भी device primary memory की बिना नहीं चल सकती।

प्राइमरी मेमोरी के प्रकार – Types of Primary Memory in Hindi

Primary Memory in Hindi

RAM क्या है – What is RAM in Hindi?

RAM का Full From होता है Random Access Memory। यह एक hardware device है, जो computer की मदरबोर्ड पर रहते है। RAM का काम होता है user द्वारा दिए गए tasks को CPU के पास भेजना। मतलब RAM का काम यही होता है system मे user द्वारा दी गई सभी instruction या task

 को temporary based पर आपने पास store करके रखना और बाद मे उन सभी instruction processor को provide करना या भेजना । इसलिए RAM को CPU की primary memory या personal assistant बोला जाता है।

Computer Memory क्या है
RAM के प्रकार (Types of RAM)
  1. DRAM
  2. SRAM
  1. DRAM :-Normally हमारे mobile या computer मे जो Physical RAM रहते है और हम सब RAM का मतलब जिस चीजको समझते है उसको RAM नहीं, DRAM कहा जाता है। DRAM का Full Form होता है Dynamic Random Access Memory। इस RAM को Dynamic RAM इसलिए बोला जाता है। किउकी इस RAM मे जो डाटा रहता है बह Time to Time change होता रहता है। Dynamic शब्द का अर्थ ही होता है चलायमान। अर्थात हमेशा परिवर्तित होते रहना। इसलिए इस RAM को लगातार Refresh करना पडता हैं। computer की Physical RAM को ही DRAM कहा जाता है।

Type of DRAM-

  1. EDORAM
  2. SDRAM
  3. RDRAM
  4. DDR SDRAM a) DDR1 b) DDR2 c) DDR3 d) DDR4

आपको अगर RAM के बारे details मे जानना चाहते हो तो नीच मे दी गई notes को follow करो-

2. SRAM:– SRAM काम full form है Static Random Access Memory। यह भी एक तरह की RAM ही होता है। और इसका काम DRAM की तरह ही है, मतलब डाटा को temporary based पर आपने store करके रखना और processor को देना। but इस SRAM मे जो डाटा रहता है बह डाटा स्थिर रहता है, उस डाटा मे ज्यादा changes नहीं होता है।

इसलिए इस RAM का नाम Static रखा गेआ। Static शब्द का अर्थ ही होता है स्थिर। इस मेमोरी का काम होता है जो डाटा प्रोसेसर को बार-बार जरूरत पड़ती है (काम करने के समय) उस डाटा को Store करके रखना और जरूरत पढ़ने पर उस डेटा processor को देना। और इस SRAM को Cache Memory के नाम से जाना जाता है।

आपको अगर SRAM या Cache Memory के बारे details मे जानना चाहते हो तो नीच मे दी गई notes को follow करो-

Computer Memory क्या है
Cache Memory का Advantage:-
  1. Cache memory की speed RAM से जादा होता है ।
  2. इस मेमोरी का access time RAM से कम होती है ।
  3. इस मेमोरी ऐसा information को collect करता है जो बार बार जरूरत होती है CPU की ।
  4. Cache memory मे जो डेटा रहते है बो temporary होता है ।
Cache Memory का Disadvantage:-
  1. Cache memory का डेटा store करने की capacity बहुत कम होता है।
  2. Cache memory बहुत expansive होता है।

आपको अगर Computer Hardware मे Extra Ordinary बनना है तो आप नीच मे दी गई notes को follow करो-

  1. CPU क्या है और उसकी हर एक जानकारी अब हिन्दी मे।
  2. COMPUTER PARTS IN HINDI- हर एक PARTS की DETAILS जानकारी
  3. HARD DISK क्या है (HARD DISK IN HINDI) जानिए पूरी DETAILS मे
  4. CHIPSET क्या है (WHAT IS CHIPSET IN HINDI) और SYSTEM मे इसकी IMPORTANCE को जानिए।
  5. BIOS क्या है (WHAT IS BIOS IN HINDI) और कैसे काम करते है ?
  6. माउस क्या है-WHAT IS MOUSE IN HINDI? जानिए पूरी जानकारी के साथ
  7. KEYBOARD क्या है -WHAT IS KEYBOARD IN HINDI? जानिए DETAILS मे

ROM क्या है ? WHAT IS ROM IN HINDI ?

Rom का full from ROM का full from होता है Read Only Memory। RAM की तरह ROM भी Computer की एक Primary memory है । ROM एक Non-volatile memory है, मतलब इसमें जो डाटा store रहता है बह डाटा Permanently based पर store रहता है। power cut या switch off होने के बाद भी इसका डाटा erase नहीं हो जाता। और एक चीज आपका जानना जरूरी है ROM मे जो डाटा present रहता है बह डाटा computer manufacturer डाल के ही देता है। user को डाटा fill करने की कोई मोका नहीं दिया जाता।

ROM क्या है
ROM कितने प्रकार होते है? TYPE OF ROM IN HINDI?

ROM का बहुत सारे अलग अलग types होता है, चलिए एक एक करके जान लेते है-

MROM क्या है- What is MROM in Hindi ?

ROM का सबसे पहला और सबसे पुराने type है MROM। MROM का full from है Masked Read Only Memory। 1980 मे इस type की Rom को इस्तेमाल किया जाता था but अभी के समय में इस MROM कहीं पर भी इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इस MROM को इसलिए इस्तेमाल नहीं किया जाता है because इस MROM मे सिर्फ एक ही बार instruction या डाटा को write करने की मोका मिलता था। दुबारा उस instruction को update या rewrite नहीं किया जाता था। और एक बात ईस MROM बहुत expensive भी है।

PROM क्या है-What is PROM in Hindi?

MROM के बाद जो ROM market मे आया उसका नाम है PROM। PROM का full from होता है Programmable Read Only Memory। इस ROM में भी instruction को एक ही बार Write किया जाता था। But पहले की ROM में हमने देखा जिस manufacturing company ने इसे बनाता था बह ही उसमे instruction को fill या write करके देता था, but इस PROM मे user को मौका दिया जाता है बह खुद इसमे instruction को write करें।

EPROM क्या है-What is EPROM in Hindi ?

उसके बाद जो types आया ROM की, बह है EPROM। EPROM का full from है Erasable and Programmable Read Only Memory। इसका नाम से ही आप idea लगा सकते हो, इस EPROM मे हम जीतने बार चाहे उसती बार डाटा या instruction को erase कर सकते हो और दोबारा उसमें डाटा या instruction को write भी कर सकते हो। But इस types ROM का एक ही disadvantage है- EPROM मे जो डाटा रहता है उस डाटाको erase करने के लिए आपको ultra violet light की आवश्यकता होगी, उस ultra violet light में EPROM को minimum 40 minutes

 तक रखना होगा तभी जाके उसमे पड़ी हुई डाटा Erase हो पाएगा।

EEPROM क्या है –What is EEPROM in Hindi?

EEPROM का full from होता है Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory। rom की जीतने भी type है उसमे से सबसे popular type है EEPROM। आप जरूर ए सोच रहे हो इस rom किउ popular है because इस EEPROM मे आप जितनी बाEEPROM का full from होता है Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory। ROM के जीतने भी types है के बारे मे आपने जाना है उन्मे से सबसे popular type है EEPROM। आप जरूर यह सोच रहे हो इस EEPROM किउ popular है ?because इस EEPROM मे आप जितनी बार चाहे उतनी बार डाटा को write या programing कर सकते है ,बह भी normal electricity की मदद से।

Flash Rom क्या है- What is Flash Rom in Hindi?

EEPROM के बाद जो types आता है ROM की बह है Flash Rom। EEPROM का advanced version है इस Flash Rom। EEPROM की तरह इस Flash Rom मे भी आप जितनी बार चाहे उतनी बार ही डाटा को write या programing कर सकते हो ,बह भी normal electricity की मदद से। but इस Flash Rom बहुत fast है EEPROM से। इस Flash Rom 1 sec मे 512 bytes डाटा को read और write करता है और दूसरी तरह EEPROM 1 sec मे 1 bytes डाटा को read और write करता है। इस Flash Rom सिर्फ 45-90 nanoseconds time लगता है पूरे डाटा erase होने मे।

Primary और secondary memory के बीच की अंतर – Difference between primary and secondary memory in Hindi ?

Secondary Memory in hindi
Primary Memory                    Secondary Memory
(i) Primary memory devices एक semiconductor memories है।(i) Secondary memory devices एक magnetic, optical and electronic memories है.
(ii) Primary memory volatile भी हो सकता है और non-volatile भी हो सकता है . ex – RAM एक volatile memory है और ROM एक non-volatile memory है।(ii) और दूसरी तरफ Secondary memory हर समय non-volatile ई होता है।
(iii) Primary memory ज्यादा effective और interacted होता है। जिससे बहुत quickly तरीकों से microprocessor के साथ communicated कर पता है।(iii) और Secondary memory बहुत slower है और slowest तरीकों से microprocessor के साथ communicated करता है।

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप Primary Memory क्या है और इसके प्रकार को जानिए ? इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बोहत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!