UPS क्या है और ईसके प्रकार,महत्व,प्रयोग को जानिए – What is UPS in Hindi?

UPS in Hindi
Spread the love

आज हम जानेंगे computer के और एक महत्वपूर्ण components, UPS के बारे में। जो computer की life को directly तो नहीं किन्तु indirectly expand करता है। कैसे करता है बह हम नीच में देखेंगे। चलिए जान लेते है इस Article के जरिए आप क्या क्या जानोगे। आप जानोगे-  UPS क्या है – What is UPS in Hindi, UPS की internal parts , UPS के प्रकार, UPS का Advantage और Disadvantages, UPS कौन कौन सी situations में computer को protect करता है, Online UPS और Offline UPS के बीच क्या फरक होता है, etc. जैसी interesting topics।

UPS क्या है – What is UPS in Hindi

UPS का full from होता है uninterruptible power supply। और यह एक hardware device है, जिसके अंदर बहुत सारा electronic parts के साथ एक battery भी होती है। और इसका काम होता है जब device में electric supply बंद, या drops हो जाता है तब उस device को Power backup देना। एक Small UPS systems कुछ ही minutes तक ही device को power backup कर पता है। किन्तु एक larger UPS systems कई hours या घंटों तक device को backup दे देता है।

What is UPS in Hindi

UPS की internal parts के बारे में जानिए -internal Parts of UPS in Hindi

UPS के अंदर चार important components रहता है जिसके बदौलत UPS काम करता है। तो चलिए उन सब components क्या क्या है देख लेते है –

  1. Rectifier : UPS को on करते ही Rectifier का काम होता है input में दी गई AC (Alternating Current) को DC (Direct Current) में convert करना और साथ ही साथ rectifier का यह भी काम होता है batteries को recharging करना।
  2. UPS Batteries :- Batteries का काम होता है power को hold करके आपने पास रखना। और जब computer की power cut हो जाता है तब उस Battery आपने power से computer को backup देना। power देने से पहले एक और process होता है बह हम 3 no point में देखेंगे।
  3. Inverter :- बह process में यह होता है के Battery की मदद से computer को power देने से पहले उस power को AC power में Convert करना परता है क्यूंकी battery से निकली हुई power DC power होता है। फिर उस DC Power को AC power में convert करके computer को दिया जाता है । और उस DC Power को AC power में convert करने का काम Inverter करता है ।
  4. Static Bypass Switch :- इस switch का काम तभी आता है जब computer की electric supply suddenly cut या drop हो जाता है, और तब इस switch का काम होता है computer की connection को तुरंत UPS की Batteries के साथ जोड़ देना।
Related Notes –

UPS के प्रकार – Types of UPS in Hindi

UPS क्या काम करता है बह हम सबको मालूम है । और आपको अगर नहीं मालूम है तो एकबार बता ही देता हूँ। देखिए दोस्तों UPS का काम होता है electrical failure हो जाने के बाद Device को कुछ समय तक आपने power के बदौलत On करके रखना। उम्मीद करता हूँ आप जान गए हो UPS क्या काम करता है। अब जान लेते है UPS के प्रकार। UPS कैसे काम करता है उसके हिसाब से UPS को दो भागों

में बीभक्त किया जाता है।

  1. Standby UPS या Offline UPS
  2. Online UPS

1. Standby UPS या Offline UPS

Computer, modems, VoIP equipment, etc. जैसी छोटे छोटे appliance में जो UPS इस्तेमाल होता है बह होता है Offline UPS। इस UPS के काम करने की तरीका कुछ अलग है, मतलब जब electric connection रहता है तब UPS उस electric connection से device को direct run कराता है। मतलब उस समय UPS आपना battery का इस्तेमाल नहीं करता है। उस समय electric connection से आपना battery को charge कर लेता है। और जब electric connection cut हो जाता है तब UPS आपना battery का इस्तेमाल करते है device को कुछ समय तक On रखने के लिए । जैसे आप नीच में दी गई diagram में देख रही हो-

UPS in Hindi

2. Online UPS

Online UPS को इस्तेमाल किया जाता है server, ATM, Hospital के Operation theater, CT Scan, MRI center, industries, जैसी बड़े बड़े place में। इसकी Price भी बहुत ज्यादा होती है offline UPS की तुलना में। और online ups की काम करने की तरीका Offline UPS से Opposite है। मतलब इस UPS पहले electric connection की मदद से आपने साथ लगे हुए battery को charge up कर लेता है। और battery जब full charge हो जाता है, तब उस battery की charge से device को on रखते है। जैसे आप नीच में दी गई diagram में देख रही हो –

Online UPS in Hindi
Related Notes –

Advantage of UPS in Hindi

  1. Ups की सबसे बड़ी advantage है zero time delay। मतलब Running computer मैं अगर बिजली cut हो जाता है तो ups बिना delay करते हुए कंप्यूटर को power supply कर देता है । इसे कंप्यूटर में कोई effect नहीं पड़ता।
  2. Customer आपने जरूरत के हिसाब से ups को choose कर सकता है क्योंकि UPS हर type और size की market में available है।
  3. UPS को इस्तेमाल करना बहुत easy है और सस्ता भी है। ups की maintains cost बहुत ही कम है generators के मुकाबले।
  4. Ups को इस्तेमाल करने से appliances safe रहता है।

Disadvantage of UPS in Hindi

  1. UPS को heavy appliances के लिए आप इस्तेमाल नहीं कर सकते हो।
  2. Ups की battery आपको regular based पर replacement करना परता है।

UPS कौन कौन सी situations में computer को protect करता है – How Does a UPS Protect Computer in Hindi?

एक computer system या कोई भी important device के लिए एक UPS होना बहुत जरूरी है। क्यूंकी UPS computer system में present data को protect

और operating system को सुरक्षित रखते है। और साथ ही साथ उस device की life को expand करता है।

और आप अगर जानना चाहते हो कैसे ? तो जान लीजिए- देखिए दोस्तों, आप अगर computer system या कोई भी important device के साथ UPS का इस्तेमाल नहीं करते हो तो क्या होगा, मान लीजिए computer इस्तेमाल कर रहे हो और suddenly आपके घर का electric connection cut हो जाता है तब computer भी बंद हो जाता है। और इस प्रकार कंप्युटर अगर suddenly off हो जाता है तो 90% chance रहता है computer की OS crash होने की और साथ ही साथ computer की कोई IC defect होने की। और UPS computer को suddenly off होने से बचाता है। जिसे computer, operating system दोनों ही सुरक्षित रहता है।

और यह भी जान लीजिए, किस किस situation में UPS इस्तेमाल करना mandatory है। इन मेसे किसी भी situation अगर आपके घर या area मे होता है तो UPS इस्तेमाल करना आपके device के लिए mandatory है। नीच में देख लीजिए-

  1. Voltage Surges and Spikes: जहां पर electric line में normal voltage से suddenly ज्यादा voltage आ जाता है। और इस process continues चलती ही रहती है।
  2. Total Power Failure: जहां पर fuse और Power Failure की ज्यादा problem रहता है।
  3. Voltage Sags: जहां पर line में normal voltage से suddenly कम voltage आ जाता है। और इस process continues चलती ही रहती है।
  4. Differences in the frequencies: जहां पर eclectic की frequencies क continues up down करता रहता है।
Related Notes –

 Difference between Online UPS and Offline UPS in Hindi

PARAMETERSONLINE UPSOFFLINE UPS
Heat dissipation और Operating temperatureHeat dissipation इसका ज्यादा रहता है क्योंकि online ups हर बक्त ON रहता है।Heat dissipation इसका कम रहता है। because offline ups तब on होता है जब electric power fail हो जाता है।
Transfer Timeइसकी Power transfer time एकदम zero है। क्योंकि online ups पहले आपने battery को charge कर लेता है फिर उस battery के power से system को on रखते है। इसकी Power transfer time 5 ms है। जब electric connection रहता है तब इस UPS उस electric connection से device को direct run कराता है। और जब electric connection cut हो जाता है तब UPS आपना battery का इस्तेमाल करते है device को कुछ समय तक On रखने के लिए ।
Componentsइसमे बहुत ज्यादा components का इस्तेमाल होता है इसलिए इसका design complex है। और इसमे बहुत कम components का इस्तेमाल होता है इसलिए इसका design simple है।
Heat Sinkonline ups में Large heat sink की जरूरत परती है।offline ups में Small heat sink की जरूरत परती है।
Costइसकी cost offline UPS से बहुत बहुत ज्यादा है।इसकी price बहुत कम है।
Reliability & efficiencyonline ups कम reliableनहीं है because इस UPS हर बक्त ON state में रहता है .offline UPS ज्यादा reliable है online ups की मुकाबले । because इस UPS तब ON होता है जब power failure होता है।
Applicationsइसको medical equipment, telecommunication equipment CT Scan, MRI center, etc. जैसी जगह पर ज्यादा इस्तेमाल किए जाते है।और इसको computers, PCs, modems, VoIP equipment, etc. जैसी जगह पर ज्यादा इस्तेमाल किए जाते है।
Related Notes –

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप UPS क्या है और उसके प्रकार,महत्व,प्रयोग को जानिए – What is UPS in Hindi? इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बोहत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!