मॉनिटर क्या है और इसके प्रकार – what is Monitor in Hindi

Monitor in Hindi
Spread the love

आज हम जानेंगे computer के और एक महत्वपूर्ण components monitor के बारे में। इस article में हम बात करेंगे – मॉनिटर क्या है – what is Monitor in Hindi, मॉनिटर के आविस्कार कब और किसने किया, मॉनिटर के प्रकार, CRT मॉनिटर क्या है और कैसे काम करता है , LCD मॉनिटर क्या है और कैसे काम करता है , LED मॉनिटर क्या है और कैसे काम करता है , OLED मॉनिटर क्या है और कैसे काम करता है, मॉनिटर की विशेषता, मॉनिटर के connectors क्या क्या है etc. topics के बारे में।

What is Monitor in Hindi

मॉनिटर क्या है – what is Monitor in Hindi

Monitor एक electronic output device है, जो computer की output (मतलब images, text, video, और graphics) को अपनी स्क्रीन पर Soft Copy के रूप में प्रदर्शित करता है। इसलिए इसको visual display unit या video display unit भी कहा जाता है। आज के समय में monitor के बहुत सारे types market में available है। जिनमेसे कुछ popular types है – LED,LCD,CRT, OLED, etc।

मॉनिटर के आविस्कार कब और किसने किया – Invent of Monitor in Hindi

  • दुनिया का सबसे पहला Monitor ( मतलब cathode ray tube monitor) device को invented किया था German के scientist Karl Ferdinand Braun ने, सन 1897 में
  • अगर हम बात करे world के पहला liquid crystal display (LCD) की तो बह invent हुआ था 1968 में
  • LED display monitor की एक major और महत्वपूर्ण component है LED bulb। और इस LED को invent किया Nick Holonyak ने, सन 1962 में। उसके बाद इस LED bulb को इस्तेमाल करके LED display को बनाया गेआ, और LED display को बनाया HP company ने, सन 1968 में।

मॉनिटर कितने प्रकार के होते है – Types of Monitor in Hindi

इस Article में मैंने Monitors के कुछ ऐसे types के बारे में बताने वाला हूँ जिन्हें की पहले इस्तेमाल किया जाता था, और कुछ monitor ऐसी भी है जो अभी के समय में इस्तेमाल किये जा रहे हैं। तो फिर चलिए इनके विषय में और अधिक जानते हैं।

Monitor in Hindi

CRT मॉनिटर क्या है – Cathode Ray Tube (CRT) Monitors in Hindi

आपने पुराने कंप्यूटर तो देखा ही होगा, उनमें जो box की तरह monitor दिखाई देती थी वह थी CRT monitor। और इस CRT का full from है Cathode Ray Tube। इस technology के मॉनिटर पहले की समय में इस्तेमाल होता था। किन्तु आज के समय में कहीं पर भी इस technology के मॉनिटर इस्तेमाल नहीं होता है। अब हम जान लेते है इस मॉनिटर काम कैसे करते है।

इस मॉनिटर की inside portion में रहता है एक tube और Red Green Blue (RGB) color की electronic beam। जो आप नीच में दी गई image में देख रही हो। जिसमें क्या होता है उस तीनों color की beam जब tube के surface से टकराती है तब वह beam codec या combine होके multiple color create करता है और हमे screen पर visual image दिखाई देती है। और इस तरह इस मॉनिटर काम करता है। और इस पूरे प्रोसेस में इस मॉनिटर बहुत ज्यादा current consume कर लेता है। इसलिए इस technology के मॉनिटर को आज के समय में कहीं पर भी इस्तेमाल नहीं किया जाता है।

crt  Monitor in Hindi
Working procedure CRT Monitor

LCD मॉनिटर क्या है – Liquid Crystal Display in Hindi

LCD का full from होता है Liquid Crystal Display। यह एक new technology के monitor है जो आजके समय में सभी जगह पर इस्तेमाल हो रहा है। CRT monitor की सभी drawback को पूरी तरह से मिटा दिया LCD monitor। मतलब CRT monitor ज्यादा current consuming करती थी , बहुत space ले लेती थी ,और इसके अलावा यह बहुत भारी बजन वाले थी, etc. इन सभी खामियों को पूरी तरह से मिटा दिया LCD monitor।

अब जान लेते है इस LCD monitor काम कैसे करते है। आपको अगर एकबार LCD मॉनिटर के कार्यप्रणाली समझ में आ जाए तो आपको LED और OLED monitor की कार्यप्रणाली भी समझने में आ जाएगा। क्यूंकी इसके बाद सभी monitor की कार्यप्रणाली same रहेगी किंतु पीछे की backlight सिर्फ change होगी।

देखिए दोस्तो इस मॉनिटर के अंदर 4 section रहती है।

  1. Lighting section
  2. Polarizer
  3. Liquid Crystal section
  4. Color filter (RGB)
  1. Lighting section :- Monitor को on करते ही, Monitor की पहली section मतलब lighting section पीछे से रोशनी देने का काम करता है ताकि image screen पर दिखाई दे। और इस monitor में रोशनी देने का काम fluorescent lights करता है।
  2. Polarizer :- monitor की दूसरी section मतलब Polarizer section उस रोशनी को एक दिशा में भेजने का काम करता है। उसके उस रोशनी जाता है Monitor की तीसरी section में।
  3. Liquid Crystal section :- Monitor की तीसरी section Liquid Crystal section क्या करता है उस रोशनी को छोटे छोटे pixel के आकार में मतलब छोटे छोटे rectangular block की आकाश में रूपांतरित करके color filters section में भेज देते है।
  4. Color filter (RGB) :- और finally Color filter section color producing करने का काम करता है । color producing complete हो जाने के बाद बह producing visual image हमारे monitor में देखाई देती है। जैसे आप नीच की image में देख रही हो-
 Monitor in Hindi

Related Notes :-

  1. CPU क्या है (WHAT IS CPU IN HINDI) & उसकी जानकारी अब हिन्दी मे
  2. MICROSOFT WINDOWS क्या है और इसके इतिहास, प्रकार, विशेषताएं, संस्करण को जानिए
  3. RAM क्या है(WHAT IS RAM IN HINDI) और कैसे काम करते है ?
  4. CACHE MEMORY क्या है?(WHAT IS CACHE MEMORY IN HINDI) BEST EXPLANATION
  5. OPERATING SYSTEM के प्रकार-TYPES OF OPERATING SYSTEM IN HINDI
  6. COMPUTER की प्रकार -TYPES OF COMPUTER IN HINDI?

LED मॉनिटर क्या है – LED Monitors in Hindi

LED monitors आज के समय के सबसे latest types के monitors हैं। इसकी जो advantages हैं वो ये की, ये ऐसे images, videos produce करते हैं जिसमें की higher contrast होती है, और साथ में ये negative environmental impact भी ज्यादा नहीं डालती है जब इसे dispose किया जाता है, और ये ज्यादा durable भी होती हैं LCD monitors के तुलना में. अब जान लेते है इस मॉनिटर काम कैसे करते है।

LCD monitor की तरह LED monitor भी same तरीकों से image या videos produce करते हैं। किन्तु एक ही चीज जो दोनो monitor को अलग करती है वह है पीछे की backlight । LCD monitor में पीछे से रोशनी देने का काम CCFL light करती हैं और led monitor में पीछे से रोशनी देने का काम छोटे छोटे led bulb करते है। आपको लग रहा है यह तो सामान्य changes है, किंतु इस छोटे changes ही दो मॉनिटर के बीच बहुत कुछ परिवर्तित कर देता है। क्या-क्या चीज परिवर्तित होता है वह हम देखेंगे LCD और LED monitor की अंतर में, जो नीच में discuss की गई है।

 Monitor in Hindi

OLED मॉनिटर क्या है – OLED (Organic Light-Emitting Diode) Monitors in Hindi

OLED का full form होता है Organic Light Emitting Diode. ये भी एक latest technology के display devices है। जैसे की नाम से पता चलता है यह organic material (जैसे की carbon, wood, plastic या polymers) से बनी हुई होती है। इसकी fast response time, wide viewing angles, outstanding contrast levels और perfect brightness होने से, ये OLED displays अब तक की सबसे बेहतरीन display technologies मानी जाती हैं। अब जान लेते है इस मॉनिटर काम कैसे करते है।

मैंने जैसे आगे भी बोला था सभी monitor एक ही तरीको से काम करते हैं सिर्फ पीछे की backlight change होती रहती है, और same चीज यहां पर भी है। OLED monitor भी LED और LCD monitor की तरह काम करता है। OLED monitor मे पीछे कोई backlight तो नहीं रहता है। किंतु इस मॉनिटर के अंदर जितने भी pixels रहता है उन pixel के पीछे मतलब उस pixel के पास में आपनी individually एक light रहता है।

pixel के पास में आपनी individually एक light रहने की बजह से इस technology पहली बात तो बहुत महंगा है। और साथ ही साथ इस monitor की color और brightness बहुत बेहतरीन है, और इस मामले में सभी monitor को कई लाखो गुना पीछे छोड़ता है। और एक बात इस monitor की power consumption level बहुत ही कम है।

 What is Monitor in Hindi

मॉनिटर की विशेषता – Features of Monitor in Hindi

monitor खरीदनेसे पहले आप अगर इन 4 feature को देखके खरीदते हो तो आप एक सही monitor choose कर पाओगे। उन चारों विशेषता है –

  1. Size
  2. Resolution
  3. Refresh Rate
  4. Dot pitch
Size

Monitor के feature के बारे में अगर बात करे तो सबसे पहला number में आता है Monitor के size। Monitor के size जितना बढ़ा होगा कंप्युटर पे काम करने में उतना ही मजा आएगा। आज के समय मे 16 inch से लेकर 105 inch size तक monitor market में available है।

Resolution

उसके बाद जो चीज monitor में देखना परता है बह है Resolution। Resolution से screen की number of pixel कितना है उसको count किया जाता है। मान लीजिए एक monitor की Resolution 2560 x 1600 है। इसका अर्थ monitor की horizontal में 2560 और vertical में 1600 pixel है। और एक monitor की Resolution जितना ज्यादा होगा display की sharpness उतना ही बेहतर होगा।

Refresh rate

Resolution के बाद जो चीज देखना परता है बह है monitor की Refresh rate क्या है। Refresh rate का मतलब monitor एक pixel को कितना जल्दी refresh कर रहा है। और इस Refresh rate को नापा जाता है Hz या cycle per sec में। for example – कोई monitor की Refresh rate 60 Hz। उसका अर्थ monitor हर pixel को 60 times per second refresh कर रहा है। एक monitor की refresh rate अगर higher रहता है तो आपको picture, video, game, में smoothness नजर आएगी, और कोई lags नजर नहीं आएगी।

Dot pitch

सब सेश में आपको देखना परता है monitor की dot pitch rate क्या है। Dot pitch का मतलब होता है एक pixel से दूसरी pixel की दूरिया क्या है। इसकी rete जितना कम होगा image या video का quality उतना ही अच्छा होगा। for example – CRT monitor की dot-pitches as high as 0.51 mm, LCD monitor की dot-pitches है 0.28 mm। आपको अगर अभी तक कुछ समझमे नहीं आ रहा है तो आप नीच की image को देखो –

 Monitor in Hindi

मॉनिटर के connectors – Types of Monitor connector in Hindi

अब हम जानेंगे monitor की connector के बारे में । मतलब किस किस connector के जरिए monitor को computer से connect किया जाता है। आज के समय में monitor को computer से connect करने के लिए 4 तरह के connector देखने को मिलता है। चलिए एक एक करके सब देख लेते हैं-

  1. VGA
  2. DVI
  3. HDMI
  4. DisplayPort

1. VGA – Video Graphics Array 

VGA है सबसे पुराना और सबसे popular display standard है। इस display standard को invent किया था IBM, सन 1987 में। इस connector के जरिए आप computer के साथ monitor, projector, TV इन सब devices को connect कर सकते हो। इस standard से आप 320 x 200 resolution से लेकर 2048×1536 resolution बाली video का मजा उठा सकते हो। इस standard 256 colors को support करता है। यह एक पुराना standard है इसलिए इसमे ज्यादा feature देखने को नहीं मिलता है।

2. DVI – Digital Visual Interface

VGA के बाद DVI standard market में आया। किन्तु इस DVI standard VGA की तरह उतना popular नहीं हो पाया। जिसकी सबसे बड़ी बजह है इस display standard की Different different variant। मतलब इस display standard मे बहुत सारे variant देखनेको मिलता है (DVI-A, DVI-V,DVI-I), जो users को confusion में डाल देता है। अगर DVI की इस कमी को नगरन्दाज किया जाए तो इस standard VGA से कई गुना बेहतर है। इसमे better picture quality देखने को मिलता है VGA के तुलना में।

Types of Monitor connector in Hindi

इसमें 2560 x 1600 तक resolution बाली video support करते है। इस standard 4.95 gbps की speed में data transfer करता है। इस connector के जरिए आप computer के साथ monitor, projector, TV इन सब devices को connect कर सकते हो। DVI-D (supported only digital signal), DVI-A (support only analog signal), or DVI-I (support both analog and digital signal).

3. HDMI – High-Definition Multimedia Interface

आज के समय में जो standard धीरे धीरे popular हो रहा है बह है HDMI standard। क्योंकि इस standard video signal के साथ साथ audio signal को भी transmit करता है। और साथ ही इस standard को computer या monitor से connect करना काफी easy है। इसमे 4196 x 2160 resolution बाली video support करता है। इस standard 10.24 gbps की speed में data transfer करता है। और multiple company ने मिलकर HDMI standard को बनाया है, उस list में सामील है Toshiba, Sony, Hitachi, और Philips जैसी company

Types of Monitor connector in Hindi

4. Display port

HDMI के बाद जो standard अभी अभी market में आया है बह है Display port। इस standard HDMI से काफी अछे quality के digital audio और video signal को transmit करता है। और इसकी data transfer और video quality ऊपर के सभी standards को पीछे छोरता है। और इस standard से आप 3840 x 2160

resolution से लेकर 7680 x 4320 resolution बाली video का मजा उठा सकते हो। इस standard 17.28 Gbps की speed में data transfer करता है। और इस connector के जरिए आप computer के साथ monitor, projector, TV इन सब devices को connect कर सकते हो.

Monitor in Hindi

LCD और LED में क्या अंतर है – Difference between LCD and LED monitor in Hindi

LCD LED
LCD का full form है Liquid Crystal Display LED का full form है Light-Emitting Diodes.
LCD में backlight के तौर पर fluorescent lights (CCFL) का इस्तेमाल किया जाता है
LED में backlight के तौर पर light-emitting diodes का इस्तेमाल किया जाता है
fluorescent lights (CCFL) इस्तेमाल करने से LCD monitor में Black color की darkness थोरा फीका देखनेको मिलता है। और LED light इस्तेमाल करने से LED monitor में Black color की darkness थोरा ज्यादा देखनेको मिलता है, LCD monitor के तुलना में।
LCD में resolution कम मिलता है।और दूसरी तरफ LED में resolution ज्यादा मिलता है, LCD के तुलना में।
LCD monitor में switching time slow है। LED monitor में switching time Fast है।
LCD का display area large है, LED के तुलना में। LED का display area small है, LCD के तुलना में।
LCD monitor Power consumption ज्यादा करता है। LED monitor Power consumption कम करता है।
इस monitor का contrast ratio ज्यादा है। और इस Monitor का contrast ratio कम है।
LCD monitor का Thickness ज्यादा है, LED monitor के तुलना में। LED monitor थोरा slim है, LCD monitor के तुलना में।
इसका Brightness low है। और इस monitor millisecond में response देता है। और इसका Brightness high है। और इस monitor nanosecond में response देता है।
Related Topic :-
  1. BOOTING PROCESS क्या है – WHAT IS BOOTING PROCESS IN HINDI?
  2. BIOS को कैसे UPDATE किया जाता है- HOW TO UPDATE BIOS IN HINDI?
  3. KERNEL क्या है – WHAT IS KERNEL IN HINDI?
  4. FIRMWARE क्या होता है – WHAT IS FIRMWARE IN HINDI?
  5. CHIPSET क्या है (WHAT IS CHIPSET IN HINDI) और SYSTEM मे इसकी IMPORTANCE को जानिए।

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप मॉनिटर क्या है और इसके प्रकार – what is Monitor in Hindi? इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बोहत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.