Router क्या है और काम कैसे करता है- What is a Router in Hindi

router in Hindi
Spread the love

एक Network को established करने के लिए जो जो networking devices की आवस्यकता होती है उन्मे से सबसे important device है Router। because इस Router ही है जो data को destination मे send करता है। और आज हम जानेंगे इस Router के बारे मे। इस notes मे हम आपको बताऊँगा- Router क्या है (What is a router in Hindi), Router कैसे काम करता है, Router के types, Router को किउ Network मे use किया जाता है, Router मे जो Ports रहते है उनका क्या काम है, Routing Table क्या है, Router के benefit, Routing algorithm क्या है और भी कई सारे बाते सिर्फ एक notes मे। चलिए शुरू करते है-

Router क्या है – What is a Router in Hindi?

Router एक internetworking device है, जो दो अलग अलग network को आपस मे जोड़ता है और उन Networks के बीच मे Communication established करता है। Communication का मतलब होता है data packet को एक network से दूसरे network मे forward करना। Router कोई भी data packet को send करने से पहले उस डाटा packet को Analysis करता है और उसके बाद ही डाटाको destination address मे send करता है। इसके अलाबा और भी बहुत सारे काम router करता है बह हम जानेंगे Router काम कैसे करता है उस topic मे।

Router in Hindi

कई सारे Popular companies Router को develop करते है; जैसे Cisco3ComHPJuniperD-LinkNortel, TP-Link etc. Router के बारे मे कुछ important Points नीच मे दी गए है –

  1. Router को इस्तेमाल किया जाता है LAN (Local Area Network) and WAN (Wide Area Network) environments मे।
  2. इसकी मदद से आप आपना information या Resources अलग Network मे share कर सकते हो।
  3. Network मे इस्तेमाल होने बाली सभी Devices मे से इसकी price थोरा ज्यादा होती है।

राउटर का उपयोग – Why Use Routers in Network ?

Router क्या है शायद आप जान गए हो। अब हम जानेंगे Router को किउ Network मे use किया जाता है। देखिए दोस्तों, आप अगर बिना internet की मदद से same network मे कोई file या folder को एक computer से दूसरे computer मे share करना चाहते हो, तो आप बिना Router के ही बह sharing कर सकते हो Hub या switch की मदद से । Hub या switch capable होते है same network मे present computers के बीच file या folder को sharing करने मे।

किन्तु, आप अगर दो अलग अलग network मे present computers के बीच कोई file या folder को share करना चाहते हो या computer में internet access करना चाहते हो तो उस case में आपको इस्तेमाल करना परेगा Routers की। because different network के बीच communication establish करने मे Routers ज्यादा capable होते है Other network device के मुकाबले। Router सिर्फ अलग अलग networks को जोड़ता है ऐसा बात नहीं है, ईसके अलाबा router एक network से दूसरे network मे डाटा packet transfer भी करता है। इसलिए Router को Network मे use किया जाता है।

Router कैसे काम करता है- How to work router in Hindi?

Router का सबसे important काम होता है दो या दो से ज्यादा different network को आपस मे जोड़ना और उस network के बीच communication को established करना। ऐसे network जिनकी Network ID Different है। Network ID का मतलब होता है। मान लीजिए Amazon Company का एक Computer की IP address है 12.10.122.1 और Flipcart company का एक computer की IP address है 15.1.145.2

और इस situation मे उस दो computer अगर आपस मे communication, hardware sharing, file folder sharing करना चाहता है तो ऐसे मे उस दो computer को आपस मे communicate कराने के लिए हमे Router का इस्तेमाल करना पढ़ेगा। क्योंकि उस दो company का network ID अलग अलग है। एक company का network ID है 12.0.0.0 और दूसरे company का network ID है 15.0.0.0। और इस situation में Router का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे आप नीच की image में देख रही हो-

Router in Hindi

Router और एक Important काम करता है बह है डाटा को सही और easiest route बताना। मतलब सही रास्ता बताना ताकि डाटा जल्दी destination मे पहुँचें। आपको अगर आसान भाषा मे समझाऊँ , मान लीजिए आप Kolkata से Mumbai जाना चाहते हो, Kolkata से Mumbai जाने के लिए आपके पास बहुत सारे रास्ते या Route है। आप Bus से जा सकते हो, आप Train से जा सकते हो, आप Flight से भी जा सकते हो, और हम सब जानते है आप अगर Flight की मदद से जाते है तो आप Mumbai मे बहुत जल्दी पहुंचेंगे।

ठीक इसी तरह बहुत सारे different networks को मिलाकर Internet को बनाया गेआ है। और इन सब different networks को Router की मदद से जोड़ा गेआ है। डाटा जब एक network से दूसरी network मे travel करता है तब data को बहुत सारे router से गुजरके जाना परता है। ठीक इसी जगह Router का काम आता है, router क्या करता है डाटा को सही और easiest route बताती है ताकि डाटाको कम router वाला पथ गुजरना पड़े । क्यूंकी डाटा अगर कम राउटर को cross करके destination में जाता है तो time भी कम लगता है।

जैसे आप image मे देख रही हो– destination मे जाने के लिए इहाँ पर बहुत सारे Route या रास्ते available है, but router easiest route से ही data को destination मे send करता है ।

Router in Hindi
image पर Hope का मतलब Router

आप अगर IP Address क्या है उसके बारे details मे जानना चाहते हो। तो आप इस notes को follow करो – IP ADDRESS क्या है (WHAT IS IP ADDRESS IN HINDI) और उसके प्रकार? इस notes मे हम IP Address क्या है, IP के Version (IPv4 vs IPv6), IP की address class, IPv4 vs IPv6 Difference, IP Address की Network ID कैसे पता कारे ? Private ip क्या हैPublic IP क्या है ? NAT क्या है ? Static IP क्या है ? Dynamic IP क्या है ? Loop Back IP क्या है? इन ढेर सारे Topic के बारे मे विस्तार मे discuss की है।

Router के प्रकार- Types of Routers in Hindi

Router क्या क्या काम करता है शायद आप अछि तरह से जान गए हो। अब हम जानेंगे Router के प्रकार। Functionality के हिसाब से Router को कई भागों मे बीभक्त किया जाता है। चलिए देख लेते है Router के कितने types है और कॉनसा types को कहाँ पर इस्तेमाल किया जाता है।

1. Broadband Router in Hindi

आज के समय मे सबसे ज्यादा इस्तेमाल कीये जाने बाली router है इस Broadband Routerघर, Office, College, cyber café, etc जैसी छोटे छोटे network को established करने के लिए इस Router का इस्तेमाल किया जाता है। इस Router बहुत सारे feature के साथ आता है। जैसे इस router से आप Internet चला सकते हो, WIFI की सुबिधा उठा सकती हो, Wire और wireless माध्यम के जरिए आप आपने devices को जोर सकते हो, और सबसे बड़ी बात इस Router modem का भी काम करता है। मतलब network मे modem का जो काम signal को modulates and demodulates करना। अब बह काम इस router कर रहा है। इसलिए आज के समय मे आपको कई भी Modem देखनेको नहीं मिलेंगे।

Types of Routers in Hindi

2. Brouter in Hindi

Brouter जो है बह Router और Bridge के combination से बनी है। मतलब Router और Bridge का जो काम है network मे बह काम इस एक device अकेला करता है। मतलब Router का काम होता है दो या दो से ज्यादा different network को आपस मे जोड़ना और bridge का काम है दो या दो से ज्यादा same network को जोड़ना और इस दो काम इस device अकेला करता है। मतलब इस Brouter उसी जगह इस्तेमाल किया जाता है, जहां पर इस दो काम को करने की जरूरत परती है।

आपको example के जरिए समझाता हूँ , मान लीजिए आपका दो office है और दोनो office के बीच की दूरियाँ 5 km है। आप अगर उस दो office की network को आपस मे जोड़ना चाहते हो और उस network मे internet चलाना चाहते हो । तो उस दो network को जोड़ने और internet चलाने के लिए आपको Brouter का इस्तेमाल करना परेगा।

Types of Routers in Hindi

3. Core router in Hindi

इस router को बढ़े बढ़े company मे इस्तेमाल किया जाता है जहां पर बहुत सारे routers इस्तेमाल होते है। इस router का काम है अलग अलग Distributed Routers को आपस में जोड़ना। मतलब अगर एक Company है जिसके बहुत सारे Routers है और उस Router अलग अलग Location में लगी हुई है और उन सभी Routers को आपस में जोड़ने के लिए Core Router का इस्तमाल किया जाता है।

4. Edge router in Hindi

इस प्रकार के Router को ISP (Internet Service Provider) इस्तेमाल करते है। इसका काम है बाहरी Protocols जैसे BGP (Boarder Gateway Protocol) को दुसरे ISP के BGP के साथ Configure करना।

Computer Network मे बहुत सारे Networking devices इस्तेमाल होता है। आपको अगर उन सब Devices के बारे मे Details मे जानना है, तो आप इस notes को Follow करो- NETWORK DEVICES IN HINDI- ROUTER, MODEM, SWITCH, REPEATER

Router के क्या क्या Benefits है- Benefits of Router in Hindi

चलिए जान लेते है network मे Router को इस्तेमाल करने पर user को क्या क्या Benefits मिलता है।

Security: दो different network के बीच connectivity established करने के साथ साथ Router user की डाटाको secure भी रखते है। डाटा जब एक जगह से दूसरी जगह में जाते है उस समय उस डाटाको बहुत सारे cable और station से गुजरके जाना परता है और उस समय डाटा lost या hack होने की संभावना रहता है और तब Router डाटा को lost या hack होने से बँचाता है।

Performance enhancement: Router आपके network की Performance को enhancement करती है। मतलब डाटा packet जब एक जगह से दूसरी जगह जाता है तो उस डाटा packet को बहुत सारे Router से गुजरके जाना परता है और उस समय आपके डाटा packet की speed या performance कम ना हो जाए उसके ऊपर भी router खास ध्यान देती है।

Reliability: Router एक Reliable और intelligent device है। Router के ऊपर आप भरोषा कर सकते हो। मान लीजिए डाटा destination address मे travel करने के समय अगर कोई server down है या कोई wire defect है तो उस समय राउटर क्या करेगा उस effected server या wire को bypass करके दूसरे server या wire के जरिए router डाटा को destination address मे भेज देगा। इससे आपका डाटा को कोई तरह नुकसान नहीं होता है ।

Packet Filtering:- Router के जरिए आप आपके network की Rules को create कर सकते हो। मतलब मान लिए आप आपके network मे Facebook के ऊपर restriction लगा दिया तो कोई user आपके network मे Facebook नहीं चला पाएगा।

Related Notes:-
  1. NETWORK क्या है और कितने प्रकारके होते है – WHAT IS NETWORK IN HINDI
  2. INTERNET की पूरी इतिहास – HISTORY OF INTERNET IN HINDI?
  3. TOPOLOGY क्या है ( TOPOLOGY IN HINDI) और कितने प्रकार के होते है ?

Router के ports- Interface of Router in Hindi

Router के back side में बहुत सारे अलग अलग port या connector रहते है। network में उन सब port या connector क्या काम होता है चलिए एक एक करके जान लेते हैं। इस notes में हम industrial और broadband routers के port के बारे मे Discuss करेंगे।

पहले देख लेते है industrial Router के अलग अलग port के functionality-

Router in Hindi
Industrial Router

GroundingGE Fast Ethernet port 1
Power On-off switchFiber-optic port
Power input connectorNIM slots
USB port GE Fast Ethernet port 2
Console portAuxiliary port
Auxiliary port  
  1. Console port :- Console port का इस्तेमाल Router को configure करने के लिए किया जाता है। Router को configure करने के लिए console cable की ज़रूरत परती है। Console cable की एक end को router की console port में लगाना परता है और दूसरा end को computer या laptop में लगाके router को configure किया जाता है.
  2. Auxiliary Port:– इस port का भी इस्तेमाल Router को configure करने के लिए ही किया जाता है। but इस port का इस्तेमाल router को remotely configure करने के लिए किया जाता है। remotely configure का अर्थ होता है कई दूसरी जगह बैठ के internet की मदद से configure करना। मतलब मान लीजिए आपका office Mumbai मे है और आप आपके घर मे बैठ के router को configure करना चाहते हो तो उस situation में इस port की मदद से router को configure किया जाता है।
  3. Fast ethernet port:- इस port का इस्तेमाल network को connect करने के लिए किया जाता है । इस router मे दो Fast ethernet port है , इसका मतलब आप दो अलग अलग network को इस router के साथ connect कर सकते हो।
  4. Fiber optic port :- इस port का इस्तेमाल Fiber optic cable को connect करने के लिए किया जाता है।
  5. NIM Slot:- extra port लगाने के लिए Router मे इस Slot को दी गई है। आपको अगर कोई extra port लगाने की जरूरत परती है तो आप इस Slot की ढक्कन को खोल कर extra port लगा सकते हो। इस slot युक्त Router को Modular Router कहा जाता है।

industrial Router के तुलना मे broadband routers मे ports का संखा कम रहती है। चलिए देख लेते है broadband routers के अलग अलग port के functionality-

Interface of Router in Hindi
Broadband Router
  1. WAN Port:– इस port मे ISP की तरफ से जो main connection मिलती है, उस connection को WAN port मे लगाना परता है।
  2. LAN Ports:– इस 4 LAN ports मे Computer या switch को connect किया जाता है।
  3. WPS Button:– WPS का full from Wi-Fi Protected। Wi-Fi के password को protect करने के लिए इस button का इस्तेमाल किया जाता है। आपके router के wi fi connectivity पर अगर password लगा हुआ है। इस button को press करने पर कुछ समय के लिए आपके WIFI की password remove हो जाता है और उस समय कोई भी user wi fi को connect कर पाते है। इससे क्या होता है आपको हर बार आपके wifi के password बोलना नहीं परता है ।

Routing algorithm क्या है- Routing algorithm in Hindi

  1. router का algorithm Data packet को Source to Destination में स्थानांतरित करने के लिए सबसे अच्छा मार्ग निर्धारित करके देता है , जिस माध्यम से Data packet को Destination में successfully transmit किया जा सके।
  2. डाटा जब एक जगह से दूसरी जगह में जाते है तो उस समय उस डाटाको बहुत सारे cable और station से गुजरके जाना परता है। और उस समय router डाटा को पूरी तरह से security देता है।
  3. router का algorithm डाटा को Destination में स्थानांतरित करने के लिए easiest route बताती है। ताकि डाटाको कम से कम router वाला पथ गुजरना पड़े। क्यूंकी डाटा अगर कम राउटर को cross करके destination जाता है तो time भी कम लगता है destination में जाने के लिए।
Related Notes :-
  1. VPN क्या है और कैसे काम करता है ? 
  2. TCP/IP MODEL क्या है – TCP/IP MODEL IN HINDI ?
  3. OSI MODEL क्या है – OSI MODEL IN HINDI?

Routing Table क्या है – What is Routing Table in Router?

कोई भी Router काम करता है Routing table के through। इस table मे network की सभी route का information रेहता है। जिस information को follow करके router डाटा packet को destination मे send करता है।

Router कोई भी data packet को send करने से पहले इस table को follow करता है। और इस table में router देखता है डाटा को destination में send करने के लिए easiest route कौनसा है। और router उस route से ही data packets को destination में send करते है। Router के जरिए जितने भी अलग अलग नेटवर्क को जोड़ा गया है उन सभी नेटवर्क का network id इस table में रहता है। इससे router को आसानी होती है data packet को destination में send करने में।

What is Router in Hindi

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप Router क्या है – What is a router in Hindi इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बोहत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *