Cloud Computing क्या है और इसके इतिहास, प्रकार, Benifits को जानिए

CLOUD COMPUTING IN HINDI
Spread the love

आज हम ऐसी infrastructure के बारे में बात करने वाले हैं जिस infrastructure का भविष्य में दौड़ आने वाला है। और Covid situation में तो इसका growth और भी तेजी पकड़ ली है। globe newswire की एक report यह बताती है कि 2019 में इसका market size था लगभग $244B ($2 billion dollar) और 2022 आते आते इसका market size लगभग दुगना हो गया है। मतलब 2022 में इसका market size पहुंच चुका है $402B ($4 billion dollar) में, और तो और यह report यह भी बताता है 2025 में इसका market size $798.84 तक पहुंच जाएगा। इस reports के जरिए आप यह समझ सकते हो की इस model भविष्य में राज करने वाला है।

इसलिए आज हम इस Topic को choose किया है, जिसके जरिए आप जान सकते हो Cloud Computing model क्या है (What is Cloud Computing model in Hindi), Cloud Computing के इतिहास, क्लाउड कम्प्यूटिंग के प्रकार, Cloud Computing services के प्रकार, Cloud Computing के विशेषताएं, Cloud Computing के Benefits, Cloud Computing के नुकसान, etc. इन सभी विषय को मैं बहुत ही आसान भाषा में समझाने की कौशिस करूंगा ताकि आप सभी विषय को अछि तरह से समझ सके। तो चलिए शुरू करते है –

What is Cloud Computing in Hindi

Cloud Computing क्या है – what is cloud computing in Hindi

Cloud computing internet में मिलने वाली एक ऐसा model या infrastructure है जो पैसे की बदले में users को service provide करता है। उन services में सामिल है software, hardware, storage, networking, database, server, analytics, intelligence, etc. जैसी तरह तरह के services। मुद्दे की बात यह है आप अगर इन सब services में से किसी service को इस्तेमाल करके आपना online business established करना चाहते हो तो आप इन model का इस्तेमाल कर सकते हो।

आपको एक real example देके समझाता हूं आप कैसे एक online business खड़ा करोगे। मान लीजिए आप एक data center बनाना चाहते हो। तो data center बनाने के लिए आपके पास इन सब सामान होना जरूरी है, जैसे computers, operating systems, internet connection, storage devices (HDD, SSD), firewall, software, etc। आप अगर इन सब चीजों को खरीदने जाओगे तो इसका cost बहुत ज्यादा आएगा। और सबसे बड़ी बात इस cost को आपको एक time में उठाना पड़ेगा। जो आपके लिए बहुत Risky

हो सकता है। क्यूं मैं Risky बोल रहा हूं मान लीजिए आपका डाटा center कुछ ही दिनों के बाद बंद हो जाता है तो आपका सारा पैसा बर्बाद हो जाएगा।

Cloud Computing in Hindi

किंतु आप अगर cloud computing model को इस्तेमाल करके अपना data center बनाते हो तो इन सभी devices को आपको खरीदना नहीं पड़ेगा। आपको सिर्फ इन सब devices को इस्तेमाल करने की बदले में किराया या पैसा देना पड़ेगा, बस। जो किराया की amount होगी बह बहुत कम है। और सबसे बड़ी बात यह है, आपको इन सब devices ओ का maintained भी नहीं करना पड़ेगा। किंतु उन data center को access या optimize करने के लिए आपके पास internet connection होना जरूरी है क्योंकि आप internet connection के जरिए data center को remotely access करोगे। और आपका डाटा center अगर कुछ ही दिनों के अंदर बंद भी हो जाता है तो आपको ज्यादा नुकसान नहीं होगा।

Cloud Computing के इतिहास – Evolution of cloud computing in Hindi?

सायद आपको Cloud computing का concept समझ में आ गेआ है, अव हम इसके इतिहास के बारे में जानेंगे। देखिए दोस्तों cloud computing का main concept एकदम से ही किसी इंसान या किसी organization के दिमाग में नहीं आया था। इसका concept या idea धीरे धीरे इंसान के दिमाग में increment या developed हुआ था। और कैसे increment हुआ था बह हम इस article में जानेंगे। तो चलिए Cloud computing की इतिहास को जान लेते है –

What is Cloud Computing in Hindi

देखिए दोस्तों, जब network या internet का आविष्कार हुआ तब Clint server architecture के जरिए एक कंप्यूटर से दूसरी कंप्यूटर में डाटा transfer करना possible हुआ। मतलब यहां से cloud computing के एक कॉन्सेप्ट निकल कर आया की network के जरिए डाटा को share किया जा सकता है। किंतु तब उस architecture में यह problem होता था server एक time में एक कंप्यूटर या Clint को ही डाटा transfer कर पता था।

उसके बाद जब distributed computing का अविष्कार हुआ तब ऊपर में दी गई प्रॉब्लम पूरी तरह से मिट चुकी थी। मतलब इस distributed computing को जब server बनाया गेआ तब इस system सभी कंप्यूटर को एक साथ डाटा transfer कर पता था।

उपरोक्त कंप्यूटिंग के आधार पर, cloud computing का idea धीरे धीरे involved होने लगा।

और जब सन 1961 में MIT के एक engineer उसका नाम था John MacCharty एक भाषण में सुझाव दिया कि computing services (Hardware या software ) को utility की तरह बेचा जा सकता है। मतलब आपको अगर सरल शब्दों में समझाऊं तो आप ऐसे समझिए की हमारे country में जिस तरह water और electricity को बेचा जाता है ठीक उसी तरह इस computing services को से बेचा जा सकते है। और John MacCharty का इस सुझाव एक brilliant Idea था । किन्तु आवश्यक resources न होने की वजह से उस समय में इस idea को implement करना possible नही हो पा रहा था।

किन्तु भविष्य में इस brilliant Idea को implement किया जा सकता है इसी भाबना को ले कर उस समय में बहुत सारे organization या company इसके ऊपर काम करना शुरू कर दिया था। और कई साल गुजरने के बाद जब Marc Benioff ने internet में applications servicing start किया तब जो computing services को बेचा जा सकता है उस सपना सच हो गया था। Marc Benioff ने क्या किया एक website को launched किया जिसका नाम था Salesforce.com, और इस website में applications को servicing या बेचना start कर दिया।

और उसके बाद धीरे धीरे और भी services मिलने लगे। जैसे 2002 में, Amazon ने Amazon Web Services की शुरुआत किया जिसमे storage, computation और human intelligence जैसी services को बेचना start किया।

2009 में, Microsoft ने Windows Azure लॉन्च किया, और Oracle और HP जैसी कंपनियाँ सभी इस computing servicing model में शामिल हो गई हैं। और इससे यह साबित होता है कि आज के समय में cloud computing सिर्फ एक concept बनके नहीं रही है, आज के generation में तो क्लाउड कंप्यूटिंग एक मुख्यधारा बन गई है।

  1. ROUTER क्या है और काम कैसे करता है- WHAT IS A ROUTER IN HINDI
  2. NETWORK DEVICES IN HINDI- ROUTER, MODEM, SWITCH, REPEATER
  3. NETWORK क्या है और कितने प्रकारके होते है – WHAT IS NETWORK IN HINDI
  4. TCP/IP MODEL क्या है – TCP/IP MODEL IN HINDI ?
  5. OSI MODEL क्या है – OSI MODEL IN HINDI?

क्लाउड कम्प्यूटिंग के प्रकार – Types of Cloud Computing in Hindi

अब हम समझेंगे cloud computing की प्रकार। मतलब आज के समय में हम सभी किसी न किसी cloud computing को इस्तेमाल कर रहे है । किन्तु बह cloud computing किस category या types में परता है अब हम उसी को जानेंगे। पहले आप जान लीजिए cloud computing के चार प्रकार के होते है –

Cloud Computing in Hindi
  1. Public cloud
  2. Private cloud
  3. Hybrid cloud
  4. Community Cloud

Public cloud

Public cloud एक ऐसा cloud है जो सभी इस्तेमाल कर सकता है, यह सभी के लिए open है। किन्तु इस cloud को इस्तेमाल करने के लिए आपको pay करना परेगा। और इस cloud का example है office 365, hotstar, Spotify, etc. जैसी applications या software। और इस Cloud आज के समय सबसे ज्यादा इस्तेमाल हो रहा है।

Private cloud

Private cloud को internal cloud और corporate cloud भी कहा जाता है। क्योंकि इस cloud को ज्यादातर corporate या company के अंदर इस्तेमाल किया जाता है। और इस cloud के services को सिर्फ offices की employs ही इस्तेमाल और manage कर सकते हैं।

Hybrid cloud

आपको अगर private cloud और public cloud का concept समझ मे आ गेआ है, तो इस cloud को समझने में आपको कोई दिक्कत नहीं आएगी। क्यूंकी Hybrid cloud private cloud और public cloud की Combination से बनती है। इस तरह के cloud computing में डाटा और एप्लीकेशन को Private और Public cloud के बीच मैं move किए जाते हैं। ऐसी सुविधा देने वाले हाइब्रिड क्लाउड का इस्तेमाल करने से बिजनेस को ज्यादा flexibility मिलती है। और इसका सबसे अच्छा example है – AWS Outposts, Azure Stack, Azure Arc, Google Anthos

Community Cloud

दो या दो ज्यादा organization की private cloud को जब एकसाथ जुड़ दिया जाता है तब उस cloud को community cloud कहा जाता है। इस तरह की computing में ऐसी organization के बीच में डाटा की sharing होती है, जिनके एक जैसे लक्ष्य होते हैं। और उन सभी organization मिलकर एक कम्युनिटी बनाते हैं। उस कम्युनिटी के member ही इस सर्विस का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Cloud Computing services के प्रकार – Cloud delivery models in Hindi

cloud computing model में मिलने वाली services को तीन category में विभाजित किया गया है। बह तीन category है –

  1. Infrastructure as a Service (IaaS)
  2. Platform as a Service (PaaS) 
  3. Software as a Service (SaaS)  
What is Cloud Computing in Hindi

Infrastructure as a Service (IaaS)

इस category में सिर्फ hardware services मिलता है। hardware services में परता है computer, storage, network devices, operating systems, firewall etc. इस service को सिर्फ IT infrastructure को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। मतलब IT related company’s इस service को सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। मतलब जिस सब company’s के पास आपना बनाया हुआ software या application है और उन software को run करने के लिए इन सब devices (computer, storage, network devices, operating systems, firewall) ओ का आवश्यकता होता है। उन सब company इन IaaS category को सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हैं।

Platform as a Service (PaaS) 

PaaS को web, computer, mobile में इस्तेमाल होने बाली application

को बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। बहुत सारे service providers है जो software developing के platform providers करता है, जिसके जरिए users आपना software या website बना सकता है। मतलब आप अगर एक app developer हो और अपना application या software बनना चाहते हो तो cloud computing के इस service को इस्तेमाल करके अपना application को बना सकते हो। इस service में सारा कुछ service provider संभालेगा, आप सिर्फ application और data को handle करना परेगा करोगे। और service providers ओ का list नीच में दी गई है।

  1. AWS Elastic Beanstalk
  2. Windows Azure
  3. Heroku
  4. Force.com
  5. Google App Engine
  6. Apache Stratos
  7. Open Shift
  8. Java

Software as a Service (SaaS)  

और last में आता है SaaS मतलब Software as a Service। इस service के नाम में ही इसका answer है। एक software users को service provide करता है। इस service में सारा कुछ service provider संभालता है, users को कोई तरह के चीज manage नहीं करना परता है।

आपको एक real example देके समझाता हूँ – आप Microsoft Office 365, Dropbox, Google Applications, Shopify, Adobe Creative Cloud etc जैसी application ओ का नाम तो सुना ही होगा और सायद आप इस्तेमाल भी करे होंगे। उसमे क्या होता है, आप अगर उन सब application को free में इस्तेमाल करते हो तो आपको normal feature देखने को मिलता है और आप जैसे ही पैसा दे कर किसी भी application का subscription ले लेते हो तो आप उसी software का सभी features को इस्तेमाल कर सकते हो। SaaS, एक pay-per-use model है । और उसके जरिए आपना business established भी कर सकते हो। और यह ही होता है cloud computing के Software as a Service।

आप नीच में comment करके बताइए आप कौनसा category के cloud services इस्तेमाल करते हो।

Cloud Computing के Application – Application of Cloud Computing in Hindi

Cloud service provider बहुत सारे field में applications service provide करता है। जैसे – art, business, data storage and backup services, education, entertainment, management, social networking, etc।

  1. Art Applications (Photoshop CC, Clip Studio Paint)
  2. e-Commerce Application (Amazon, Flipcart)
  3. Social Media Applications (Facebook, Instagram)
  4. Meeting Applications (Zoom, Google meet)
  5. Entertainment Applications (Netflix, Hotstar)
  6. Antivirus Applications (Quick heal, Bit-Defender)
  7. Data Storage Applications (One Drive, Mega, Google Drive)
  8. Image Editing Applications (Adobe Photoshop)

Cloud Computing के विशेषताएं – Characteristics of Cloud Computing in Hindi

देखा जाये तो Cloud Computing की ऐसे बहुत से आकर्षक विशेषताएं हैं जिसका इस्तेमाल करके आप आपना business बना सकते हो। तो चलिए Cloud Computing की ऐसे बहुत से आकर्षक benefits को जान लेते है-

  1. Reporting service :- Cloud computing के सबसे अच्छा characteristic है measured और Reporting service। आप अगर cloud के service ले रहे हो तो cloud computing model हर वक्त आपको आपके business की reporting देती रहती है। reporting का मतलब यह है कि internet पर आपके running busyness कैसा perform कर रहा है, उसकी loading speed क्या है, users की experience कैसा जा रहा है etc. इन सब reporting हर वक्त आपको करते रहते हैं।
  2. Security :- Cloud computing के Data की security one of best विशेषता में से एक है। Cloud computing आपके पूरी डाटा को multiple server में copy करके रख देता है। इससे क्या होता है अगर किसी एक server crash भी हो जाता है हो तो बह दूसरे server से बह डाटा backup कर लेगा। जिससे आपके busyness model down में नही जाएगा। और साथ ही साथ आपके डाटा भी secure रहेगा।
  3. Automation :- Cloud computing के इस विशेषता भी एक महत्त्वपूर्ण विशेषता है। Cloud computing के सारा service या feature automation में चलता है। आपको कोई भी चीज install, configure, maintenance नही करना परता है।
  4. Work From Any Location :- Cloud computing के यह भी एक महत्त्वपूर्ण विशेषता है। Cloud computing के services को इस्तेमाल करके आप अगर एक busyness या website को बनाते हो तो आप आपके busyness या website को कहीं पर भी बैठ के mobile, computer के जरिए operate या access कर सकते हो। इस model आपको तुरंत आपके busyness या website के साथ connect कर देता है।
  5. Zero Maintenance:- Cloud computing model को इस्तेमाल करने पर आपको किसी भी तरह (hardware devices & software) के maintenance costs
    नही उठाना पड़ता है। क्योंकि वह cost service provider वाले उठाते हैं। जिससे आपके खर्चे बहुत हद तक कम हो जाता है।
  6. Multi tenancy :- Cloud computing के multi tenancy one of the best characteristic में से एक है। क्योंकि Multi tenancy क्या करता है आपके recourse या डाटा को एक ही time में कई सारे users और group को share करने के लिए capable होते हैं। जिससे क्या होता है आपके online business model में किसी तरह के रुकावट नहीं आती है, और इससे users experience अच्छा रहता है।

Cloud Computing के Benefits – Benefits of cloud computing in Hindi

  1. Scalability And Rapid Elasticity :- इसका एक और benefit यह है के business growth के Regarding आप इसके service को घटा या बढ़ा सकते हो । मतलब आपके बिजनेस की growth अगर down जा रहा है तो आप इसके service का इस्तेमाल कम कर सकते हो। और अगर आपके business की growth ऊपर की तरफ जा रहा है तो आप इस आप इसकी services और भी इस्तेमाल कर सकते हो। और यह सब कुछ कोई हार्डवेयर डिवाइस खरीद कर नहीं करना पड़ेगा।
  2. Monitoring :- cloud computing model में आप जिस भी hardware और software product का इस्तेमाल कर रहे हो उस hardware और software product को maintenance या monitoring आपको नहीं करना पड़ता है।
  3. Backup and Recovery :- आप busyness या personal डाटा को असानीसे और fast backup और recovery कर सकते हो। जिसके लिए आपको बहुत कम amount में पैसा खर्च ना पड़ता है।
  4. Pay per use : Compute resources को granular level में measure किया जाता है. जिससे की users को सिर्फ उन्ही resources और workloads के पैसे देने होते है जिनकी वो इस्तमाल करते हैं.
  5. Workload resilience : Cloud Service provider अक्सर redundant resources का इस्तमाल करते हैं ताकि वो resilient storage प्राप्त कर सकें और इसके साथ वो users के important काम को चालू रख सकें जो की multi global regions में मेह्जुद हैं.
  6. Automatic Software Updates :- cloud computing में इस्तेमाल हो रही software Automatic Updates हो जाता है। आपको अलग से update देना नहीं परता है।

Cloud Computing के नुकसान – Disadvantages of cloud computing in Hindi

  1. Security and privacy :- Privacy के मामले में क्लाउड कंप्यूटिंग एकदम Worst है मैं क्यों इस मॉडल को Worst बोल रहा हूं इसके पीछे की कारण है privacy। मतलब आप जिस भी service provider से cloud की service ले रहा हो जाहिद बात यह है उसी के पास आपके business की सारा डाटा रहेंगे। और उस service provider अगर चाहे तो आपका डाटा को access या read कर सकता है। और इससे आपके company की privacy leak हो सकता हैं। हालांकि service provider वाले ऐसा नहीं करते हैं फिर भी यह यह खतरा रह ही जाता है.
  2. Downtime :- Cloud computing के एक और disadvantage यह है के इस services model पूरी तरह से internet पे टिका हुआ रहता है। internet अगर down जाता है तो automatically busyness की earning भी down में चला जाएगा। और साथ ही साथ users की experience के ऊपर खराब effect आएगा।
  3. Risk of data confidentiality :- आपका company अगर cloud computing model को इस्तेमाल करके बनी हुई है तो आपके company के imponent डाटा की Secrecy और security leaked होने का डर हर वक्त बना रहता है।
  4. Vulnerability to attack :- Cloud computing इस्तेमाल करने वाले company की business model हर वक्त online में रहता है। Online में रहने की बजह से business model के ऊपर hacker द्वारा attack होने का संभावना बहुत बढ़ जाता है।
  5. Dependency:- Cloud computing इस्तेमाल करने वाले company की business model किस तरह से work करेगी बह पूरी तरह से निर्भर करता है cloud service provider के ऊपर। मतलब आप अगर किसी सस्ता या worst service provider से cloud की services ले रहे हो जिसका service quality poor है तो जाहिद बात यह है उस service provider की poor service quality ही बजह से आपके business model भी slowly work करेगी।
  6. Limited control :- आपके cloud based business model में अगर कोई problem आ जाए तो उस problem को आप खुद solve नही कर सकते हैं। क्यूंकि service provider वाले बह काम फ्री में ही करते हैं। किन्तु कुछ problem ऐसे भी होते हैं जिसके लिए उस service provider वाले आपसे पैसा मांगता है। यह बात गलत है।
  7. Paid for services :- Cloud computing model paid for services architecture पर काम करता है। आप जितने दिन के pay करोगे cloud वाले आपको उतना दिन services देगा।

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप Cloud Computing क्या है – What is Cloud Computing in Hindi? इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बहुत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.