NAT क्या है और इसको क्यूँ नेटवर्क में इस्तेमाल किया जाता है?

आज हम इस article में internet की ऐसी services के बारे में बात करेंगे जिस service हमे कई न कई internet को इस्तेमाल करने में मदद करता है। क्यूंकी आप अगर networking के बारे में थोरा बहुत जानते हो तो आपको पता होगा world की population के हिसाब से आईपी अड्रेस बहुत ही limited है। तो इस limited IP address को सभी devices को देने में इसका महत्व बहुत ही ज्यादा है। तो चलिए कैसे इस service यह काम करता है उसको जान लेते है।

NAT क्या है – What is NAT in Hindi ?

NAT full from होता है Network Address Translation। Translation सुनके आपको क्या खेयाल आ रहा है ? के यह ही है न Translation means NAT कुछ चीजको translate करता है। जी हाँ दोस्तों आपका सोच बिल्कुल सही है। NAT काम होता है एक या एक से ज्यादा private IP को एक public IP में convert करना। आप सवाल आता है इसका जरूरत क्यूँ परती है? इसको शुरू करने से पहले आप अगर Private IP और Public IP के बारे में नहीं जानते तो आपको बह चीज पहले जानले, नीच में उसका link दिया हुआ है –

1. Private IP और Public IP क्या है ?

NAT को क्यूँ नेटवर्क में इस्तेमाल किया जाता है – Why Use NAT in Hindi?

NAT एक straightforward process है जो network equipment Router में इस्तेमाल होता है। Router में पहले से ही इस NAT के programing store रहता है और एक single click में बह चीज apply हो जाता है। और इसको नेटवर्क में इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि network में सभी devices को एक Public IP address में map किया जा सके और किसी particular network के अंदर किसी special devices (for ex- Servers) की actual IP address को hide किया जा सके। तो चलिए इन दोनों concepts को थोरा deeply और practically समझते है –

  • तो पहला concept था – एक particular network में present सभी devices को एक Public IP address में map करना।

देखिए दोस्तों, आजके समय मे हम सब internet का इस्तेमाल कर रहे है। और आप जानते हो internet को इस्तेमाल करने के लिए आईपी address की जरूरत परती है। और इहाँ पर और एक चीज बता दो आज internet पर ज्यादातर IPv4 इस्तेमाल होता है और बह 32 बिट का है। लेकिन IPv4 address में एक दिक्कत है, IPv4 से केवल 4 बिलियन device को ही IP address दिया जा सकता है। आप सोच रहे हो यह संख्या बहुत है लेकिन Modern World के लिए यह संख्या काफी नहीं है। आज के समय में प्रत्येक user के पास एक से ज्यादा डिवाइस मौजूद है, जोकि Internet का इस्तेमाल कर रहा है।

और पूरे world में 7 billon people रहता है। अगर प्रत्येक लोग एक भी डिवाइस का इस्तेमाल करें तब भी IPv4 100% people को IP Address प्रदान करने में सक्षम नहीं है। और इस problem को मतलब IP address की shortage को मिटाने के लिए NAT को Implement किया गया है।

NAT in Hindi

और आप अगर Private IP और Public IP क्या है यह जानते हो तो आपको पता होगा internet को इस्तेमाल करने के लिए public IP की जरूरत परती है। तो NAT क्या करता है एक या एक से ज्यादा private IP को एक public IP में convert में convert करने का काम करता है। जिससे सभी devices को IP address देना possible हो पता है।

  • तो दूसरा concept था – किसी particular network के अंदर किसी special devices (for ex- Servers) की actual IP address को hide करना।

सायद आपको पता है Hacker ने IP address के मदद ले कर किसी भी computer या Servers को hack करता है। network में NAT implement हो जाने के बाद NAT क्या करता है Server या computer की actual IP hade कर देता है इससे Server या computer hack होने की संभबना बहुत कम हो जाता है।

NAT के प्रकार – Types of NAT in Hindi

देखिए दोस्तों, पहले बता चुका हूँ NAT को Router में apply या configuration किया जाता है। मैं यहाँ पर Home Router की बात नहीं कर रहा हूँ क्यूंकी Home Router में पहले से ही configure रहता है। मैं यहाँ पर industrial router की बात कर रहा हूँ जिसको configure करना परता है। और NAT को configure करने की तीन तरीका या तीन प्रकार है, जो नीच में बरणं की गई है –

  1. Static NAT
  2. Dynamic NAT
  3. PAT

Static NAT in Hindi

इसमें एक Private IP address को एक Public IP address में map या convert किया जाता है। इसको one to one mapping भी कहा जाता है और यह नेटवर्क सुरक्षा को बढ़ावा देता है। For example – 10.0.0.1 (Private IP) >>> 12.0.0.1 (Public IP)

Dynamic NAT in Hindi

Dynamic NAT में, बहुत सारें Private IP address को एक ही Public IP address में में map किया जाता है। इसका इस्तेमाल तब किया जाता है जब हमें यह पता होता है कि कितने users एक निश्चित समय में इन्टरनेट को access करना चाहते हैं।

PAT in Hindi (Port Address Translation)

और हम को अगर सभी private ip address को एक public ip में convert करना है तो इस PAT का इस्तेमाल किया जाता है। PAT क्या करता है एक ही Public IP address को unimitated Private IP address में convert करता है, और पोर्ट नंबर का उपयोग विभिन्न कनेक्शनों को अनलॉक करने के लिए होता है। और आज के समय में इस NAT के इस types कोई ज्यादातर इस्तेमाल किया जाता है।

NAT के फायदे – Advantages of NAT in Hindi?

  • NAT का एक फायदा यह legally registered IP addresses converse करने का काम करता है।
  • यह network में flexibility प्रदान करता है।
  • यह किसी vital device की IP को hide करके उस device की privacy को protect करता है।
  • IP address की shortage को मिटाने के लिए NAT महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
  • NAT overall network की security को strong करता है।

NAT के नुकसान – Limitations of the NAT in Hindi?

  • इसके फायदे के साथ साथ इसका नुकसान भी है। यह network की performance को decrease कर देता है।
  • इसके implementation से बहुत सारे applications ठीक तरीकों से काम नहीं करता है।
  • इसका tunneling protocols बहुत ही complicated है।
  • यह End to End traceability को lost कर देता है।
  • NAT एक public IP address का उपयोग कई Private IP के लिए करता है, लेकिन यह संख्या की सीमा में रहती है। इसका मतलब है कि एक समय में केवल कुछ ही संख्या के users को मिल सकती है, जिससे अन्य users की अनुभव को प्रभावित हो सकता है।

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप NAT क्या है और इसको क्यूँ नेटवर्क में इस्तेमाल किया जाता है – NAT in Hindi ? इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बहुत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।

Avik Ghara

मेरा नाम Avik, मैं IT Intelligance का Author हूँ। और वर्तमान समय में मैं George Telegraph Training Institute में Computer Hardware & Networking Engineering का शिक्षक हूँ। और शिक्षक होने के नाते मुझे कंप्युटर और नेटवर्किंग के बारे में सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *