Extranet क्या है और इसकी importance, Benefits को समझिए – Extranet in Hindi

हम सब internet क्या है इसके बारे में थोरा बहुत जानते है, लेकिन internet के साथ साथ और भी दो term बहुत ही महत्वपूर्ण है। जो है – Intranet और Extranet। और आज हम Extranet के बारे में जानेंगे और सीखेंगे –Extranet क्या है, Extranet के benefits और Internet, Intranet, and Extranet के बीच की अंतर के बारे में। तो चलिए शुरू करते है –

Extranet क्या है – Extranet in Hindi

देखिए दोस्तों आप अगर intranet के बारे में जानते हो तो आपको extranet को समझने में कोई दिक्कत नहीं होगी। intranet की तरह extranet भी organization के private network को कहा जाता है। इंटरनेट में हम ने देखा है सिर्फ company के authorized internal members ही इस्तेमाल करते थे. लेकिन extranet में company के authorized internal members के साथ साथ partners, vendors और suppliers या authorized customers भी इस network को इस्तेमाल करता है।

आपको इहाँ पर एक चीज बता देता हूँ intranet हो इया extranet दोनों ही मामलों में Internet की ज़रूरत परती है। और इस service की ज्यादा facility partners, vendors और suppliers या authorized customers को नहीं दिया जाता है अगर compare करे authorized internal members से।

What is Internet in Hindi

आपको अगर real time example के जरिए समझाऊँ तो आप Amazon या Flipcart की example ले सकते हो। जहां पर company के authorized internal members के साथ साथ partners, vendors, suppliers या authorized customers भी इसका इस्तेमाल करता है।

एक्सट्रानेट की फायदे – Benefits of the Extranet in Hindi

  • इस Extranet की बजह से सभी employees के साथ साथ partners, vendors और suppliers या authorized customersको आसानीसे किसी कामों को करने में encourages किया जाता है।
  • इस Extranet software को operate करना भी easy है और इसकी implementation और operating costs भी कम है।
  • एक्स्ट्रानेट की मदद से संगठन अपने ग्राहकों के साथ बेहतर संपर्क में रह सकता है और उनकी नजरियों को समझ सकता है। इससे ग्राहक सेवा में सुधार हो सकता है और ग्राहकों की संतुष्टि बढ़ सकती है।
  • यह organization या company में मौजूद errors को कम करके कंपनी की efficiency में सुधार करता है।
  • एक्स्ट्रानेट संगठन को अपने पार्टनर्स के साथ स्थिरता और स्थायिता प्रदान करता है। संगठन अपनी आवश्यकताओं के आधार पर अनुकूलित संपर्क साधा कर सकता है और विकसता हो सकता है बिना कि उसको निवेश करने की आवश्यकता हो।

Internet, Intranet, and Extranet के बीच की अंतर – Difference between internet, intranet, and extranet in Hindi

            Points     InternetIntranetExtranet
Define                         इंटरनेट एक विशाल नेटवर्क है, जो दुनिया भर के सभी computing devices को एकसाथ जोरने और उनके बीच communication  कराने का काम करता है।किसी भी organization’s के private network को intranet कहा जाता है और यह सिर्फ company के authorized internal members ही इस्तेमाल कर सकता है.  Extranet भी किसी organization’s के private network को कहा जाता है लेकिन इसमें company के authorized internal members के साथ साथ external members भी होता है.
Network Area & Access इसका range all over the world है और सभी users access कर सकता है।इसका range सिर्फ organization के अंदर तक ही है। और यह Private members के लिए बनाया गया है ।  इसका range भी limited ही है लेकिन यह थोरा बड़ा होता है Intranet के मुकाबले । और यह उस company के Private members और users के लिए बनाया गया है ।
Security      LowHighHigh
Usersइसको इस्तेमाल सभी कर सकता है।organization के Employees or authorized people ही इस network का इस्तेमाल कर सकता है.  organization के Employees or authorized people के साथ साथ third parties like partners, vendors, customers भी इस नेटवर्क इस्तेमाल कर सकता है।
Regulated Authorityusers की कार्येक्रम को या overall services को Regulated करने बाली Authority कोई भी नहीं है।intranet में किसी organization users की कार्येक्रम को या overall services को Regulated करता है ।Extranet में भी किसी organization या multiple organization users की कार्येक्रम को या overall services को Regulated करता है ।
Communication ProtocolsTCP/IPTCP/IPTCP/IP
Costintranet and extranet से इसका cost बहुत ही कम होता हैएक्स्ट्रानेट की तुलना में कम और इंटरनेट की तुलना में अधिक।इंटरनेट और एक्स्ट्रानेट दोनों की तुलना में उच्च।

CONCLUSION

उम्मीद करता हूँ, आप Extranet क्या है और इसकी importance, Benefits को समझिए – Extranet in Hindi? इस notes को पूरा पढ़ने के बाद आपका सभी confusion clear हो गेया है और इस note से बोहत कुछ शिखने को मिला है। परन्तु यदि आपको इस पोस्ट में किसी जानकारी का अभाव लगता है या आपके पास इससे सम्बंधित कोई सवाल है. तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सुझाव हमारे लिए बहुत मायने रखते है. और एक बात आपको अगर किसी भी topic पर जानकारी चाहिए,जो अभी तक मैंने cover नहीं की तो आप नीच में comment करके बह topic बता सकते हो। आपका topic clear करने की मैं पूरा कोशिश करूंगा।

Avik Ghara

मेरा नाम Avik, मैं IT Intelligance का Author हूँ। और वर्तमान समय में मैं George Telegraph Training Institute में Computer Hardware & Networking Engineering का शिक्षक हूँ। और शिक्षक होने के नाते मुझे कंप्युटर और नेटवर्किंग के बारे में सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *